कहि पंडाल तो कहि मूर्ति बनाने का कार्य, मुंबई में गणपति उत्सव की तैयारी

मुरारी सिंह, महाराष्ट्र: मुंबई के बोरिवली साई नगर में श्री साईं गणपति आर्ट में 155000 की गणपति की बुकिंग हुई है। पिछले कई सालों से श्री साईं गणपति आर्ट में गणपति मूर्ति बनाने का काम 4 महीने पहले से चलता है । हजारों की तादात में भक्त मूर्तियां बुक करते हैं ।यहां की विशेषता यह है कि आप जिस प्रकार की मूर्ति का आर्डर देंगे उस प्रकार की मूर्ति आपको यहां मिलेगी ।लाल बाग के राजा से लेकर सिद्धिविनायक और लोगों के मन चाहे तरीके की गणपति की प्रतिमा मिलती है ।यही वजह है कि उत्तर मुंबई में सबसे ज्यादा बिकने वाला गणपति इसी श्री साईं आर्ट गणपति पंडाल से गणपति निकलती ,सप्ताह भर पहले से ही गणपति को ले जाने का सिलसिला शुरु हो जाता है। जिसके लिए मुंबई पुलिस और ट्राफिक जी अपनी कमर कस लेती है।

बिजनोर जेल कि सुरक्षा व्यवस्था कैसी हे?

दानिश मिर्जा, बिजनोर: यूपी की जेल में लगातार बढ़ रहे अपराधों ने सरकार की नाक में दम कर दिया है। अभी हाल ही में बागपत जिला जेल में माफिया मुन्ना बजरंगी की हत्या कर दी गयी थी।जिसका सरकार ने संज्ञान लिया और यूपी की सभी जेलों में जैमर और सीसीटीवी से लैस होगी। बिजनोर जिला जेल में भी डीएम और एसपी की  लगतार छापेमारी होती रहती है पूर्व में बिजनोर जिले में तैनात  रहे एसपी प्रभाकर चौधरी ने जेल में अचानक छापेमारी की थी, जिसमे कई बड़े माफिया और सफेद पोश नेताओ  के मोबाइल फोन चलते पाए गए थे।  इसी वजह से शासन के आदेश पर जिला जेल में 34 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए है।

EXCLUSIVE: रायबरेली के कानून व्यवस्था को लेके पुलिस अधीक्षक सुजाता सिंह ने क्या कहा?

आसाद खान, रायबरेली: एएनएम निउज ने पुलिस अधीक्षक रायबरेली का इंटरव्यू एक्सक्लूसिव किया। जिसमें पुलिस अधीक्षक रायबरेली सुजाता सिंह बताया कि कानून व्यवस्था से खिलवाड़ करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। आने वाले 2019 के लोकसभा चुनाव में किसी भी तरह की कोई लापरवाही नहीं बढ़ती जाएगी कानून व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त करने के लिए हाल ही में काम ना करने वाले थानेदारों पर कार्यवाही की गई है जो भी थानेदार या चौकी इंचार्ज अपने काम को गंभीरता से अपना दायित्व नहीं निभा आएगा उसके ऊपर कार्यवाही सुजाता सिंह रायबरेली पुलिस अधीक्षक।

LIVE VIDEO : कानपुर मे गिर गई इमारत, घायल हुए कई लोग

चंद्रकांत तिवारी, कानपुर :  कानपुर में भीषण बारिश के कारण तबाही का मंजर हर घण्टे में देखने को मिल रहा है। आज फीलखाना इलाके में एक तिमंजिला इमारत गिरने का दृश्य कैमरे में रिकार्ड हो गया। इसके बाद लोगों में पैनिक देखते हुए जिला प्रशासन ने सेक्टर मजिस्टेटों के नेतृत्व में हर वार्ड में गश्त शुरू करा दी है। ये मजिस्टेट जर्जर इमारतों को चिन्हित कर उन्हें खाली करा रहे हैं।

फीलखाना इलाके में एक तिमंजिला इमारत को जिसने ढहते देखा, इस खौफनाक नजारे से सिहर उठा। संयोग से एक मोबाईल कैमरा आँन होने से यह दृश्य उसमें रिकार्ड हो गया। खैरियत यह रही कि जिस समय यह हादसा हुआ, तब इमारत में रहने वाले सभी दो परिवार कहीं बाहर गये हुए थे वरना बड़ी अनहोनी हो सकती थी। इमारत के जमींदोज होने की खबर पर जिला प्रशासन के अधिकारी बचाव दल के साथ मौके पर पहुचे और मलबे में किसी के न दबे होने की पुष्टि की।

कानपुर नगर, देहात और आसपास के जिलों में अनवरत वर्षा से हादसों की निरन्तर खबरे आ रही हैं। अब तक दो दर्जन से अधिक पुराने मकान गिरने और पाँच लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। कई अन्य घायल भी हुए हैं। कल रात नजीराबाद इलाके में पचास फिट चैड़ी सड़क फटने के बाद वहाँ भी आसपास के मकान खाली कराये गये थे। पुलिस लगातार माईक सिस्टम पर जर्जर मकानों में रहने वालों से किसी सुरक्षित स्थान पर चले जाने का अनुरोध कर रही है।

मराठा आरक्षण को लेकर प्रदर्शक हो गए हिंसक

मुरारी सिंह, महाराष्ट्र: पुणे कें चाकण क्षेत्र में मराठा आरक्षण को लेकर एक बार फिर उबाल शुरू हो गया है। पुणे में आरक्षण को लेकर जारी आंदोलन ने हिंसक शक्ल ले ली है। यहां चाकन इलाके में धारा 144 लागू कर दी गई थी। देर शाम तक माहौल शांत होने के बाद धारा 144 हटा ली गई। और पुलीस की और से प्रदर्शकारियों को माहौल शांती बनाये रखनेकी अपील की गई। आरक्षण को लेकर प्रदर्शन हिंसक हो गए हैं। प्रदर्शकारियों न 100 से ज्यादा वाहन तहसनहस कर डाले और 30 बसें फूंकी। 70 अन्य वाहनों के कांच फोड़ डाले। उसके बाद पुलिस अधिकारी और जवानों पर भी पथराव करके उन्हें  जख्मी किया  उसके बाद चाकन पुलिस थाने पर भी हमला किया  और चाकन तलेगांव हाईवे पर बनाई गई पुलिस चौकी भी जला दी घटना की कवरेज करने वाले पत्रकार फोटो वीडियो खींच रहे थे उनके भी कैमरा मोबाइल छीनकर तोड़ डाले और आगजनी की है। पुलीस द्वारा प्राप्त हूइ जानकारी के मुताबिक पुणे-नासिक हाइवे पर स्थित चाकन इंडस्ट्रियल इलाके में राज्य परिवहन विभाग और पुणे नगर निगम की 30 बसों को आग के हवाले कर दिया गया। टायरों को भी जला दिया गया है और सड़कों को जाम किया गया है। प्रदर्शनकारियों ने जमकर पथराव भी किया है। माना जा रहा है कि प्रदर्शनों के पीछे मराठा क्रांति मोर्चा के कार्यकर्ता और अन्य समाज के भी कार्यकर्ता शामिल थे। लेकिन हिंसा भड़काने वाली कार्यकर्ताओं की खोज में पुलिस जुड़ी है ।

पुलिस के हत्थे शातिर चोर

आसाद खान, रायबरेली: रायबरेली में स्वाट टीम को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। स्वाट टीम ने बाइक चोरों के एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है। गिरोह के पास से 21 मोटरसाइकिल चोरी की बरामद की है। इसके साथ ही 3 ट्यूबवेल के इंजन भी बरामद किए हैं। बताया जा रहा है कि बाइक चोरों का यह गिरोह रायबरेली समेत आसपास के कई जिलों में बाइक चोरी की घटनाओं को अंजाम दे चुका है। जिले में हो रही बाइक चोरी की घटनाओं को लेकर स्वाट टीम और शहर कोतवाली पुलिस ने एक मुखबिर की सूचना पर गैंग के इन चारों  सदस्यों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए शातिर बाइक चोरों के पास से 21 बाइक बरामद की है। इसके साथ ही तीन ट्यूबवेल के इंजन भी बरामद किए हैं l पुलिस की गिरफ्त में खड़े इन शातिर बाइक चोरों पर पहले से भी कई अपराधिक मामले दर्ज है।

रेलवे परीक्षा का केंद्र दूर-दराज के इलाकों में बनाने के विरोध में उतरे तेजस्वी यादव, रेल मंत्री को लिखा पत्र

एएनएम निउज डेस्क: रेलवे की ग्रुप सी व डी परीक्षाओं के लिए दूर-दराज के इलाकों में परीक्षा केंद्र बनाने को लेकर बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखा है. पत्र में उन्होंने सवाल उठाया है कि आखिर यह कैसी ऑनलाइन परीक्षा है जिसे देने के लिए परीक्षार्थी को 2000 किलोमीटर जाना पड़े? तेजस्वी यादव ने कहा कि 9 अगस्त से शुरू हो रही परीक्षाओं में बिहार के अभ्यर्थियों को 1000-1500 किलोमीटर दूर सेंटर दे दिया गया है. किसी अभ्यर्थी को परीक्षा देने मोहाली जाना पड़ेगा तो किसी को बेंगलुरु. अधिकतर अभ्यर्थी मध्यमवर्गीय परिवारों से ताल्लुक रखते हैं, ऐसे में ट्रेन में रिजर्वेशन करा कर परीक्षा देने जाना मुश्किल है. सिर्फ जनरल कोच ही विकल्प बचता है. दूसरी तरफ यात्रा में परीक्षार्थियों के काफी पैसे भी खर्च होंगे. कई केंद्रों तक सीधी ट्रेन भी नहीं हैं. ऐसे में और मुश्किल होगी. रहने की भी दिक्कत होगी. तेजस्वी यादव ने कहा है कि मंत्रालय छात्रों को उनके घर के नजदीक परीक्षा केंद्र आवंटित करे और परीक्षा की नई तिथियां घोषित करे. अगर ऐसा नहीं हुआ तो छात्र आंदोलन पर मजबूर होंगे. आपको बता दें कि रेलवे में ग्रुप सी (Group C) के पदों पर भर्ती परीक्षा  (rrb exam) 9 अगस्त को आयोजित होगी. भर्ती परीक्षा दूर दराज इलाकों में आयोजित करने के आरोप पर रेलवे ने सफाई दी है. रेल मंत्रालय ने कहा कि 71 फीसदी से ज्यादा उम्मीदवारों को उनके शहरों से 200 किमी के दायरे में परीक्षा केंद्र आवंटित किए गए हैं. मंत्रालय ने कहा, ‘आरआरबी भर्ती परीक्षा के लिए 47 लाख से ज्यादा उम्मीदवारों ने आवेदन किए हैं. हमने उम्मीदवारों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए परीक्षा केंद्र उनके शहर या उनके शहर के पास आवंटित किए हैं’. रेल मंत्रालय ने कहा, ‘हमने शारारिक रूप से अशक्त 99 फीसदी पुरूष और महिला उम्मीदवारों के परीक्षा केंद्र उनके शहर से 200 किमी के दायरे में आवंटित किए हैं’.

असम की आग मुंबई तक , एमएनएस की मांग मुंबई में भी लागू हो एनआरसी

एएनएम निउज डेस्क: असम में एनआरसी ड्राफ्ट को लेकर संसद से लेकर सड़क तक हंगामा मचा हुआ है. इसी बीच महाराष्‍ट्र में भी असम की तरह ही एनआरसी लागू करने की मांग की जाने लगी है. राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) ने मुंबई में भी एनआरसी लागू करने की मांग की है. एमएनएस का आरोप है कि मुंबई में काफी तेजी से बांगलादेशियों की संख्‍या बढ़ रही है.गौरतलब है कि असम मेंराष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण(एनआरसी) का दूसरा और अंतिम ड्राफ्ट सोमवार को जारी कर दिया गया. ‘पूर्ण मसौदे’ में उपस्थिति दर्ज नहीं करा पाने वाले 40 लाख से ज्यादा लोगों का भविष्य अधर में लटका हुआ है क्योंकि इन लोगों की नागरिकता की स्थिति पर टिप्पणी करने से केंद्र ने इनकार कर दिया है. एनआरसी रिपोर्ट में 2.89 करोड़ लोगों का नाम शामिल है. एनआरसी में शामिल होने के लिए असम में 3.29 करोड़ लोगों ने आवेदन दिया था. उधर राज्य सभा में एनआरसी को लेकर चर्चा शुरू हो गई है. सभी दलों को इस मामले में तीन-तीन मिनट का समय दिया गया है. एनआरसी की चर्चा के चलते प्रश्‍नकाल स्‍थगित कर दिया गया है.

जो भारतीय नागरिक नहीं वो वोटर्स भी नहीं हैं: मुख्य चुनाव आयुक्त

एएनएम निउज डेस्क: असम में एनआरसी ड्राफ्ट का मुद्दा दिन प्रतिदिन गर्माता जा रहा है. विपक्ष इस मुद्दे पर मोदी सरकार को लगातार घेरने की कोशिश कर रहा है. NRC ड्राफ्ट के मुद्दे पर मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा है कि जो भारतीय नहीं है वो मतदाता भी नहीं है. चुनाव आयोग ने असम के मुख्य चुनाव आयुक्त से इस मामले में रिपोर्ट मांगी है. असम के मुख्य चुनाव अधिकारी से 10 दिन के अंदर रिपोर्ट मांगी गई है. मुख्य चुनाव आयुक्त ओ पी रावत ने कहा कि हमने 10 दिन के अंदर रिपोर्ट देने को कहा है. साथ ही कानून के मुताबिक जो भारतीय नागरिक होगा वही वोटर हो सकता है. ड्राफ्ट के मुताबिक, 40 लाख लोग भारतीय नागरिक नहीं हैं. इसमें बहुत से 18 साल से कम के भी होंगे. अंतिम तौर पर जब एनआरसी आएगा, उसमें जो भारतीय नागरिक नही होगा वो कानून के मुताबिक वोटर नहीं हो सकता.

NRC पर अमित शाह बोले- घुसपैठियों की पहचान के लिये राजीव ने किया था समझौता, हमने लागू किया, राज्यसभा स्थगित

एएनएम निउज डेस्क: असम के सिटीजन रजिस्टर का ड्राफ़्ट आने के बाद सरकार और विपक्ष आमने-सामने है. असम में NRC के मुद्दे पर राज्यसभा में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि मनमोहन सिंह ने भले ही NRC की शुरुआत की थी लेकिन कांग्रेस में इस पर अमल की हिम्मत नहीं थी, हममें हिम्मत थी और सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अमल किया है. राज्‍यसभा में विपक्ष के हंगामे के बीच अमित शाह ने कहा कि राजीव गांधी ने 1985 में असम में समझौता किया था. जिसके तहत अवैध घुसपैठियों की पहचान करने की बात की गई थी. इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने भी आदेश दिया था लेकिन कांग्रेस कोर्ट के आदेश पर अमल कराने में नाकाम रही. अमित शाह ने सदन में कहा कि इस काम को पूरा कराने का साहस कांग्रेस में नहीं था. अमित शाह ने कहा कि इसे मेरी सरकार ने पूरा करने का साहस किया है.  बीजेपी अध्यक्ष ने पूछा कि वह किसे बचाना चाहती है? क्‍या वह घुसपैठियों को बचा रही है? अमित शाह के इस बयान पर जमकर हंगामा हुआ. विपक्षी सांसद सभापति के नजदीक वेल में आ गए. हंगामे के कारण राज्यसभा को कल 11 बजे तक के लिये स्थगित कर दिया गया है. इससे पहले कांग्रेस के गुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि नागरिकता साबित करने की ज़िम्मेदारी सिर्फ़ 40 लाख लोगों पर नहीं, सरकार पर भी हो. सरकार साबित करे कि 40 लाख लोग नागरिक नहीं हैं. आजाद ने कहा कि सरकार किसी भी धर्म के लोगों को देश से न निकाले. दूसरे विपक्षी दलों ने भी सरकार पर निशाना साधा. वहीं गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में बयान दिया कि रोहिंग्या बड़ी संख्या में भारत में आ गए हैं. उन्होंने कहा कि बीएसएफ और असम राइफल्स को तैनात किया गया है कि ताकि और घुसपैठ न हो. उन्‍होंने कहा कि अगर ज़रूरी हुआ तो राज्य को ये अधिकार भी है कि वो रोहिंग्या को डिपोर्ट कर सकते हैं. वहीं ममता बनर्जी आज गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिलने वाली हैं. ममता का कहना है कि हर राज्य में बाहर से आए लोग रहते हैं. ये एक चुनावी राजनीति है.