स्वर्गीय श्रीदेवी की 56 वीं जयंती पर उनके दोस्तों और चाहनेवालो ने किया याद

एएनएम न्यूज, डेस्क: पिछले साल फरवरी में भारतीय सिनेमा फिल्म उद्योग की सबसे लोकप्रिय अभिनेत्रियों में से एक अभिनेत्री श्रीदेवी के निधन की विनाशकारी खबर सामनेआई।

13 अगस्त स्वर्गीय श्रीदेवी की 56 वीं जयंती है जो उनके परिवार और प्रशंसकों के लिए एक भावनात्मक क्षण है। अभिनेत्री को चांदनी, लम्हे, नागिन, चालबाज़, सदमा और हाल ही में आई इंग्लिश विंग्लिश और मॉम जैसी फिल्मों में उनकी भूमिकाओं के लिए जाना जाता था।

श्रीदेवी के निधन को एक साल से अधिक हो गया है लेकिन उनके प्रशंसक अभी भी उन्हें याद करते हैं और उनकी पिछली फिल्मों के माध्यम से उनके काम को याद करते हैं।

मुंबई की पालघर पुलिस ने बच्चों के साथ किया सीधा संवाद

मुरारी सिंह, एएनएम न्यूज़, मुंबई: मुंबई से सटे पालघर जिले में पुलिस की तरफ से बच्चों के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। उस कार्यक्रम में फायर सेफ्टी से लेकर सीसीटीवी पुलिस की कार्यप्रणाली और पुलिस की बंदूक और हथियारों का जिक्र किया गया। आपको बता दें की स्कूली बच्चों को और कॉलेज के बच्चों को जागरूक करने के लिए पालघर पुलिस ने यह अभियान शुरू किया है। जिसमें कई स्कूल और कॉलेज के बच्चे बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।

पालघर पुलिस के अधिकारी ने बच्चों के साथ संवाद साधा और उन्हें पुलिस के कामकाज का विवरण बताया। साथी उन्हें किस तरीके से सतर्क और होशियार रहना चाहिए इसकी भी जानकारी दी।

मौसम ने बढ़ाई परेशानियां; अमरनाथ यात्रा की शुरुआत में कई रुकावटें

राजू सिंह, एएनएम न्यूज, जम्मू: कश्मीर में हिमालय पर्वतमाला में समुद्र तल से 3,888 मीटर की ऊँचाई पर स्थित, अमरनाथ गुफा में एक बर्फ के डंठल की संरचना है जो भक्तों के अनुसार भगवान शिव की पौराणिक शक्तियों का प्रतीक है।

2,675 तीर्थयात्रियों का एक जत्था भगवती नगर यति निवास से घाटी के लिए दो एस्कॉर्ट काफिले में रवाना हुआ। पुलिस ने कहा, इनमें से 1,131 यात्री बालटाल बेस कैंप जा रहे हैं, जबकि 1,544 पहलगाम जा रहे हैं।

यात्रा के मामलों का प्रबंधन करने वाले श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) के अधिकारियों ने कहा: “श्री अमरनाथजी यात्रा के 28 वें दिन, 1,629 यात्रियों ने पवित्र गुफा में पूजा की। अब तक 3,19,355 यत्रियों ने पवित्र गुफा में शिवलिंग के दर्शन किए। ”

मुंबई पुलिस ने एक लाख पेड़ लगाया

मुरारी सिंह, एएनएम न्यूज़, मुंबई: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस जहां वृक्षारोपण का संकल्प उठाए हैं। वही मुंबई पुलिस भी एक लाख पेड़ लगाने का संकल्प लिया है। इसी कड़ी में मुंबई पुलिस ने कई खाली मैदानों को पेड़ पौधों से हरा भरा कर दिया है। पिछले कुछ सालों से मुंबई में ग्लोबल वार्मिंग की वजह से काफी समस्याएं हुई हैं। जिसे ध्यान में रखते हुए सरकार हरसंभव वृक्ष के प्रति लोगों को जागरूक कर रही है, तो मुंबई पुलिस भी अहम भूमिका निभाते हुए नजर आ रही है। पेड़ लगाओ जीवन बचाओ का नारा देने वाले पुलिस के जवान खुद वृक्ष लगा रहे हैं और उसमें पानी देकर देखभाल भी कर रहे हैं। अगर ऐसे ही हर इंसान जागृत हो जाए तो मुंबई में ग्लोबल वार्निंग की समस्या भी खत्म हो जाए।

कहीं बारिश से तो कहीं बारिश ना होने से त्राहिमाम

एएनएम न्यूज़, आसनसोल: बारिश की कमी के कारण आसनसोल शिल्पांचल में खेती बिगड़ने के कगार पर है। स्थानीय लोगों को पानी की भारी किल्लत से जुझना पड़ रहा है। एक तरफ जहाँ भारी बारिश के चलते उत्तर बंगाल में बाढ़ की स्थिति पैदा हो गयी है वही दक्षिण बंगाल के आसनसोल शिल्पांचल में पानी की क़िल्लत से खेती पर बुरा असर पड़ा है। यहां के ग्रामीण इलाको पर करीब 70 प्रतिशत लोग खेती पर निर्भर हैं। जामुड़िया रानीगंज सहित तमाम इलाके में जमीन का पैदावार अच्छी है, मगर सिंचाई की कोई व्यवस्था ना होने से यहां साल में सिर्फ़ एक बार धान की खेती होती है। अबतक शिल्पांचल में 70 प्रतिशत कम बारिश होने की वजह से धान की खेती शुरू नही हो पाई है और जहाँ बीज बोये भी गये हैं वहां पानी की कमी से वह सुख गए हैं। हर साल आषाढ़ महीने के मध्य से ही धान की खेती शुरू हो जाती है मगर इस साल पानी की कमी के कारण खेती शुरू नही किया जा सका है। किसानो को डर है की अगर अगले कुछ दिनों तक भी स्थिति ऐसी ही बनी रही तो इस साल धान की पैदावार नही हो पायेगी। जामुड़िया थाना अर्न्तगत पुराना जामशोल गांव के छोटे किसान निमाई मंडल ने बताया कि हर साल खेती कर किसी तरह यह अपने साल भर का गुज़ारा चला लेते थे मगर इस साल स्थिति बेहद खराब है। जामुड़िया दो नम्बर ब्लाक के कृषि अधिकारी आसिफ इकबाल कबीर ने बताया कि जमुड़िया 1 और 2 नम्बर ब्लाक में कुल मिलाकर 10 हजार हेक्टेयर जमीन पर खेती की जाती हैं और यहां हजारों पंजीकृत किसान हैं। अगर आने वाले सात दिनों में बारिश होती है तो कुछ पैदावार संभव है, मगर जो भी हो किसानों को इस साल नुकसान तो झेलना ही पड़ेगा।

ईस्टर्न कलफ़ील्ड्स लिमिटेड के कोयला खदान में फिर से लगी आग

हरि घोष, एएनएम न्यूज़, आसनसोल: ईस्टर्न कलफ़ील्ड्स लिमिटेड के कोयला खदान में फिर से लगी आग। दिख रहा है कला धुआं। कोयला खदान में आग लगने से पूरे इलाके में दहशत का माहौल था। कोयला खदान के गर्भ से कला धुआं निकलने के वावजूद वह कोयला निकलने का काम चल रहा है।

आप मो बता दे कल दोपहर से नार्थ सियरसोल ओपन कास्ट कोयला खदान से कला धुआं निकल रहा है, काले धुएं को पूरे इलाके को अपनी गिरफ्त में ले लिया है। कुछ जगहों से आग की लपटे भी देखा गया है। इसके अलावा, ईसीएल प्रशासन कोयला निकलने का भी काम कर रहे हैं। दूसरी ओर, ईसीएल अधिकारी कोयले में लगी आग को बुझाने की कोशिश भी कर रहे हैं। हालांकि अभी तक आग को नियंत्रण में नहीं लाया जा सका है। हमने जब ईसीएल के कुनुस्तोरिया एरिया के जनरल मैनेजर से नार्थ सियरसोल कोयला खदान की घटना के संबंध पूछने चाहा तो हमें कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली।

राजस्थान के सरहदी जिलों में रेत के बवंडर से त्राहिमाम

लोकेश व्यास, एएनएम न्यूज़, जोधपुर: पश्चिमी राजस्थान के सरहदी जिलों में उठ रहे हैं रेत के बवंडर। आमजन कर रहा मानसून का इंतजार रेत के बवंडर से रेल मार्ग से लेकर हुआ सड़क मार्ग भी प्रभावित।

कई राज्यो में बारिश से आमलोग परेशान है तो पश्चिमी राजस्थान बगैर बारिश के परेशान है। राजस्थान में पहुंचे मानसून की बेरुखी अब भारी पड़ने लगी है तो वहीं पश्चिमी राजस्थान के जोधपुर जैसलमेर और बाड़मेर में बारिश का इंतजार खत्म ही नहीं हो रहा है। जैसलमेर और बाड़मेर में रेत की बारिश जरूर देखने को मिल रही है और आषाढ़ में मानसून के रूठने से किसानों को फिर से सूखे की चिंता सता रही है। तेज हवा चलने से लोगों को उमस भरी गर्मी से तो निजात मिल गई लेकिन यह हवाएं अपने साथ मानसूनी बादल को भी उठा ले गई। अब सरहदी सेत्रों में मानसून पर धूल की चादर छाई हुई है और आंधियों का दौर चल रहा है। सुबह से लेकर रात तक रेत के बवंडर चल रहे हैं धूल भरी आंधी के चलते जनजीवन अस्त व्यस्त हैं रेल मार्ग से ले कर सड़क मार्ग तक रेत ही रेत जमी हुई है।

बिहार में भारी बारिश के चलते 8 की मौत 6 जिलों में बाढ़ की स्थिति

एएनएम न्यूज़, डेस्क: नेपाल और उत्तर बिहार के कई जिलों में हुई भरी बारिश से कमला, बागमती, गंडक, बूढ़ी गंडक और कोसी नदियां में पानी खतरे के निशान पर बह रही हैं, जिसकी वजह से इस समय बिहार के 6 जिलों में स्थिति गंभीर बनी हुई है, कमला नदी का जलस्तर बढ़ने से मधुबनी के जयनगर में तटबंध टूट गया है जिससे यहाँ की स्थिति भयावह है और जयनगर के कई इलाकों में पानी भर गया है। बिहार में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं। अब तक बाढ़ की वजह से 8 लोगों की मौत हो गई है।

वही मौसम विभाग ने आज भी बिहार में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है, राज्य के कई स्थानों पर रेल पटरियों पर पानी चढ़ जाने से रेल यातायात बाधित हुआ है, प्रभावित जिलों के स्कूल और कॉलेज को बंद रखने के आदेश दिए गए हैं।

मनपा हुई फेल स्कूली बच्चे हुए पास 1 घंटे में की समुद्र का किनारा साफ

मुरारी सिंह, एएनएम न्यूज़, मुंबई: मुंबई में इन दिनों जहां झमाझम बरसात हो रही है वही समुद्र के किनारे कचरे का अंबार है। मुंबई के मढ़ जेट्टी बीच पर गंदगी का अंबार लगा हुआ था। स्कूली बच्चों ने जागरूकता फैलाई, इन बच्चों ने स्कूल के प्रिंसिपल और टीचर के साथ बात कर 220 बच्चों ने आज मढ़ जेट्टी के सिल्वर बीच को 3 घंटे में साफ कर दी। जबकि बृहन्मुंबई महानगरपालिका मुंबई में बीचो की साफ सफाई के लिए अलग से बजट बनाती है। लेकिन उत्तर विभाग में सिर्फ एक जेसीबी मशीन होने की वजह से साफ सफाई नहीं हो पाती। यही वजह है की मुंबई का सिल्वर बिच अब गंदगी के बीच के नाम से जाना जा रहा है। वहीं कांग्रेस नगरसेवक वीरेंद्र चौधरी और संतोष कोली द्वारा यह मुहिम सफल बनाई गई।

मलाड सबवे में डूबने से दो लोगों की दर्दनाक मौत

मुरारी सिंह, एएनएम न्यूज़, मुंबई: मुंबई के अलग-अलग इलाकों में दिन भर में हुई चार और दर्दनाक मौत। मलाड सबवे में फोर व्हीलर कार के साथ दो युवक डूबे। मायानगरी मुंबई इस समय मौत की नगरी बन चुकी है। आज भी सुबह से लेकर शाम 5:00 बजे तक अलग-अलग इलाकों में चार और लोगों के मरने की खबर आई है। जहां एक तरफ मूलुड मुलुंड मे एक बिल्डिंग के गेट का स्लैब गिरने के बाद बिजली की चपेट मे आने से वॉचमैन की मौत हुई है। वहीं विले पार्ले में एक व्यक्ति की पानी में डूबने से दर्दनाक मौत हो गई। जबकि मुंबई के मलाड में एक और हादसा देखने को मिला जहां सबवे में पानी भरने की वजह से फोर व्हीलर कार फस गई। उसमें बैठे दो लोग पानी के बहाव की वजह से दरवाजा नहीं खोल पाए और गाड़ी के साथ पानी में डूब गए जिससे उन की दर्दनाक मौत हो गई। पुलिस चौकी से महज 10 कदम की दूरी पर फोर व्हीलर कार में डूबते रहे दो शख्स को पुलिस चाहकर भी उन्हें नहीं बचा पाई क्योंकि झमाझम बरसात मौत को दावत दे रही थी।