तीन महीने टेनरीज बंद होने से लगभग 10000 करोड़ का नुकसान होगा। राज्य सरकार के इस फैसले से करीब तीन लाख लोग बेरोजगार होंगे। 

चंद्र कांत तिवारी, एएनएम न्यूज़, कानपूर: अनुमान के मुताबिक तीन महीने टेनरीज बंद होने से लगभग 10000 करोड़ का नुकसान होगा। राज्य सरकार के इस फैसले से करीब तीन लाख लोग बेरोजगार होंगे। कई घरों के नही जलेंगेचूल्हे।

इस आदेश से सबसे ज्यादा प्रभावित चमड़े के उद्योग होंगे। दरअसल, गंगा का पानी काफी दूषित है। पूर्व में संतों ने प्रदेश सरकार को चेतावनी दी थी यदि गंगा प्रदूषित रही तो शाही स्नान का बहिष्कार किया जाएगा। वहीं, दूसरी तरफ सरकार के आदेश को चमड़ा निर्यात परिषद के क्षेत्रीय प्रमुख ताज आलम ने उद्योग के लिए एक बड़ा झटका करार दिया है।

इलाहाबाद में होने वाले महाकुंभ के मद्देनजर यूपी के कानपुर स्थित जाजमऊ और उन्नाव क्षेत्र में स्थापित टेनरियों को 15 दिसंबर से 15 मार्च तक बंद करने के आदेश पर मुख्यमंत्री ने मुहर लगा दी है।

प्रमुख सचिव ने सीएम के आदेश का अनुपालन करने के निर्देश शुक्रवार को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को दिए। सीएम की हरी झंडी मिलते ही प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड सक्रिय हो गया है। आदेश की कॉपी सभी टेनरियों को अक्टूबर तक डाक के जरिए बोर्ड भेज देगा।

दरअसल, मई में मुख्यमंत्री ने आदेश दिया था कि महाकुंभ के मद्देनजर तीन महीने टेनरियां बंद होंगी। इस फैसले को लेकर टेनरी संचालकों ने मुख्यमंत्री से मिलकर राहत देने की मांग की थी। लेकिन इस बीच प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की बढ़ी सक्रियता के बाद पता चला है कि मुख्यमंत्री ने 15 दिसंबर से टेनरियों की बंदी के आदेश पर मुहर लगा दी है।

शुक्रवार को प्रमुख सचिव पर्यावरण रेणुका कुमार की तरफ से जारी आदेश टेनरियों को भेजने की तैयारी यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने शुरू कर दी। बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी कुलदीप मिश्रा ने बताया कि शासन से सख्त निर्देश है कि टेनरियों को 15 दिसंबर से बंद किया जाना है। इसके आदेश की कॉपी सभी टेनरियों को अक्टूबर तक किसी भी सूरत में पहुंच जानी चाहिए।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कुछ दिन पहले कानपुर में नमामि गंगे योजना के तहत कानपुर आए थे और गंगा को प्रदूषित देख अधिकारियों को फटकार लगाने के साथ ही सभी नालों के बंद करने के अलावा तीन माह तक टेनरियों के बंद करने का ऐलान किया था। सीएम के इस फैसले को लेकर टेनरी संचालकों ने सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलने का समय मांग। सीएम ने उन्हें लखनऊ बुलाया, जहां पर टेनरी संचालकों ने उनसे राहत देने की मांग की थी। लेकिन इस बीच प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की बढ़ी सक्रियता के बाद पता चला है कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने 15 दिसंबर से टेनरियों की बंदी के आदेश पर मुहर लगा दी है। प्रमुख सचिव पर्यावरण रेणुका कुमार की तरफ से जारी आदेश टेनरियों को भेजने की तैयारी यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने शुरू कर दी।

तीन महीने तक टेनरियों की बंदी के आदेश पर स्माल टेनर्स एसोसिएशन के पदाधिकारी डाक्टर फिरोज आलम ने एतराज जताया है। उनका कहना है कि उन लोगों ने इस आदेश को समाप्त करने और महाकुंभ में स्नान की तिथियों के तीन दिन पहले टेनरियों को बंद करने का आदेश पिछली सरकारों की तरह जारी किया जाए। ऐसा नहीं होने पर अब वह लोग कोर्ट जाएंगे। उत्तर प्रदेश लेदर इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के महासचिव इफ्तिखारुल अमीन के अनुसार चमड़ा उद्योग बहुत कठिन दौर से गुजर रहा है। सरकार ने पहले बूचड़खानों में तालेबंदी का आदेश दिया, तो वहीं अब तीन माह तक टेनरियों के बंद रहने से कारोबार पूरी तरह से बर्बाद हो जाएगा। दूसरे देशों के कारोबारी यहां के बजाए अन्य प्रदेशों की तरफ अपने कदम बड़ा देंगे। सरकार को टेनरी मालिकों के अलावा तीन लाख लोगों के बारे में सोचना चाहिए था।

कानपूर की 249 टेनरियां बंद करने का आदेश। भुखमरी की नौबत, टेनरी उद्योग को करोड़ों का नुकसान

चंद्र कांत तिवारी, एएनएम न्यूज़, कानपूर: उत्तर प्रदेश प्रदुषण नियत्रण बोर्ड ने जाजमऊ कानपूर में कामन एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट (सीईटीपी) पूरी तरह संचालित न हो पाने के कारण  लगभग 249 टेनरियों को बंद करने का आदेश दिया है। यह कार्यवाई जिलाधिकारी की जांच रिपोर्ट के आधार पर की गई है। दरअसल अगले वर्ष प्रयागराज में कुम्भ को देखते हुये मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के निर्देश पर इस साल 16 मई को कानपूर के जाजमऊ में सी इ टी पी और पम्पिग स्टेशनो को उनकी मरम्मत के लिए 17. 68 करोड़ रुपये दिए गए थे। इसका संचालन पूरी  क्षमता के साथ 12 नवम्बर तक हर हाल में किया जाना था लेकिन इसका संचालन नहीं हो स्का। कुम्भ 2019 को देखते हुए प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड फ़िलहाल कोई जोखिम नहीं उठाना चाहता इस कारण बोर्ड ने यहाँ की सभी 249 फैक्ट्री का संचालन बंद करने का आदेश दे दिया है।

आदेश को लेकर स्माल टेनरीज एसोसिएशन में आज सभी टेनरियों के मालिकों ने एक बैठक की। उनका कहना है कि इस तरह टेनरियों के बंद हो जाने से तो लाखों मजदूर भुखमरी के कगार पर आ जाएंगे और बच्चों का पेट पालने के लिए गरीब वर्ग का आदमी गलत काम भी कर सकता है। इसके बाद टेनरियों के बंद होने की सूचना पर टेनरियों में सन्नाटा पसर गया और आनन-फानन में स्माल टेनरीज एसोसिएशन के अध्यक्ष हफीजुर्रहमान ने टेनरी मालिकों को बुलाकर एक बैठक की। जाजमऊ में लगभग छोटी-बड़ी मिलाकर 400 टेनरियां हैं, जिसमें कुछ बंद हो गयीं और लगभग 280 से ज्यादा टेनरियां में उत्पादन हो रहा हैं।

कुछ टेनरियों में नोटिस चिपका दिया गया है, उसमें यह लिखा है कि जल निगम नाले सभी टेप किए हैं, जिससे पानी बराबर सीईटीपी में जा नहीं रहा है। जब तक जल निगम के लोग अपनी कमी को दूर नहीं करते हैं, सीईटीपी को चारों पम्पिंग स्टेशन्स को जोड़ते नहीं है तब तक टेनरियां बन्द रहेंगी। इस तरह की बंदी से टेनरी उद्योग को करोड़ों का नुकसान होगा। समय की कोई पाबंदी नहीं है कि कितने दिन बंद रहेगी।

टेनरी संचालक रहमान ने बताया कि टेनरी उद्योग से लगभग 4 लाख लेबर हैं और उनसे उनका परिवार का पालन पोषण होता है। एक दम से यह टेनरी उद्योग बंद हो जाएगा तो भुखमरी की नौबत आ जायेगी। लोग बच्चों का पेट पालने के लिए गलत काम शुरू कर देंगे।

टेनरी मालिक का कहना है  एकदम से आदेश आता है कि टेनरिया बंद हो गयीं। उन टेनरियों में महिलाएं भी काम करती हैं, छोटे-छोटे रोजगार और गरीब वर्ग के लोग अस्त-व्यस्त हो जाएंगे। हम सभी इस मामले में बात करेंगे। यदि इसके बाद भी कोई रास्ता नहीं निकलेगा तो भुखमरी तो निश्चित है और मजबूरन सड़कों पर उतरकर आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे।

अधिकांश पायलट विमान के कॉकपिट में आत्महत्या के बारे में सोचते हैं

एएनएम न्यूज़, डेस्क: हाल ही में हार्वर्ड विश्वविद्यालय के अध्ययन में कॉकपिट में बैठे पायलट के बारे में एक सनसनीखेज तथ्य सामने आया है। अधिकांश विमान पायलट कॉकपिट पर आत्महत्या की सोच रहा है! जिनके हाथों में यात्रियों के जीवन, उनके ऐसे विनाशकारी विचार।

हर दिन लगभग 4,000 वाणिज्यिक विमान उड़ाते है ऐसे पायलट, जिनके दिमाग ने कभी न कभी आत्महत्या का विचार आया है। 4.1 प्रतिशत पायलटों के दिमाग में किसी एक समय में आत्महत्या का विचार आया है। 12.6 प्रतिशत पायलट डिप्रेशन से पीड़ित हैं। गंभीर डिप्रेशन से पीड़ित पायलट विमान के कॉकपिट पर बैठने के लिए योग्य नहीं हैं। लेकिन शोधकर्ताओं का कहना है कि कई पायलट अपनी नौकरियों को खोने के डर के कारण अपने मानसिक दबाव में रहते हैं। व्यवहार और कुछ शारीरिक संकेत देखकर यह पता चलत है की वे डिप्रेशन के शिकार हैं। लेकिन वे डॉक्टर के पास नहीं जाना चाहते हैं। शोधकर्ताओं ने इस स्थिति को हल करने के तरीकों का भी सुझाव दिया है। मानसिक दबाव से पीड़ित पायलटों से आगे आने का अनुरोध किया है। हालांकि, शोधकर्ताओं ने कहा कि एयरलाइन अधिकारियों को पायलटों नौकरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए।

झारखंड में चार नक्सली पुलिस के शिकंजे में, भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद

एएनएम न्यूज़, आसनसोल: झारखंड पुलिस और एसएसबी की टीम ने दुमका से चार नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। इन नक्सलियों के पास से पुलिस को भारी मात्रा में कारतूस और विस्फोटक सामग्री भी बरामद हुई है।

पुलिस को नक्सलियों के पास आधुनिक हथियार एवं विस्फोटक होने की खबर मिलने के बाद झारखण्ड पुलिस ने एसएसबी के साथ संयुक्त अभियान चला मौके पर दबिश दी जिसमे उन्हें भहारी सफलता हाथ लगी। नक्सलियों ने कड़ी पूछ ताछ के दौरान पुलिस को कुछ लोगो के नाम बताएं जो नक्सलियों को मदद देते है।

सिंधी रीति मुताबिक शादी नहीं होने पर इटली सिख एसोसिएशन ने धर्म अवमानना का लगाया आरोप

एएनएम  न्यूज़ डेस्क : बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह की हाल ही में हुई शादी को लेकर दोनों धर्म अवमानना के आरोपों घिर गए हैं। उल्लेखनीय है कि इसी महीने के 14 एवं 15 नवम्बर को दोनों ने इटली के लेक कोमा विलाडेल वलवीएनेल्लो में क्रमश  कोंकणी एवं सिंधी रीति से दीपिका और रणवीर ने शादी रचाई थी। सूत्रों का कहना है कि लेक कोमा में मोटी रकम खर्च कर एक अस्थाई गुरुद्वारा बनाया गया था। जहां ‘दीपवीर’ की शादी रचाई गयी थी ‘आनंद कराज’। इसी ‘आनंद कराज’ को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है। सिख धर्म गुरुओं का कहना है कि ‘आनंद कराज’ किसी भी तरह से किसी भी गुरुद्वारा के बाहर संभव नहीं है। कारण सिख धर्म ग्रंथ साहिब गुरुद्वारा के बाहर ले जाना नियम के विरुद्ध है। लेक कोमा में बनाया गया गुरुद्वारा अस्थायी था। लिहाजा वहां सिंधी रीति से विवाह कर दीपिका और रणवीर ने धर्म के विरुद्ध कार्य किया है।

आतः सिख धर्म गुरुओं ने आरोप लगाया है कि ऐसे में दीपिका और रणवीर की सिंधी रीति से शादी सिद्ध नहीं हुई । ये आरोप इटली के सिख समुदाय ने लगाया है और इस विषय में सिखों के सर्वोच्च संगठन ‘अकाल तख्त’ के सामने भी इटली के उक्त संगठन के सदस्य उपस्थित हुए हैं। अकाल तख्त के प्रधान ने बताया है कि इस विषय में कोई आरोप मिलने पर वे पांच धर्म गुरु मामले पर विचार करेंगे।

अमरीका में फिर से हमला इसबार टारगेट अस्पताल

एएनएम न्यूज़, डेस्क: संयुक्त राज्य अमेरिका के शिकागो में फिर से हत्यारे फिर से बंदूकधारी ने हमला बोल दिया। इस बार हमला मिल्किगन एवेन्यू के पास मर्सी अस्पताल के सामने किया गया हमले में दो की मौत और चार गंभीर रूप से घायल होने की खबर है।

मौके पर पुलिस के पहुंचने पर हताहत की कोई खबर नहीं। अभी भी हमलावर की तलाश जारी है। पुलिस ने अस्पताल को अपने कब्जे में ले लिया है। माना जा रहा है कि हमलावर टीम में थे। जिसमें से एक की पहचान की गई है। पुलिस ने गोली से एक बंदूकधारी घायल हुआ है। हमलावरों की गोलीबारी में एक पुलिस अधिकारी गंभीर रूप से घायल हो गया है। घटनास्थल पर 10 एम्बुलेंस पहुंच गए है। सशस्त्र सुरक्षा बलों को बुलाया गया है।

शहर में बंदूकधारियों के हमले से आतंक के माहौल है। शिकागो के मेयर इमानुअल घटनास्थल पर पहुंच गए है। एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा, ‘अस्पताल के बाहर भयंकर शोर सुनकर  हम आतंकित हो गए थे। बहार आकर देखा तो बंदूकधारियों अस्पताल के बाहर गोलीबारी कर रहे थे।

हॉकी विश्व कप के थीम सांग ‘जय हिंद इंडिया’ ए आर रहमान ने रिलीज़ किया

एएनएम न्यूज़, डेस्क: हॉकी विश्व कप कुछ दिनों में शुरू होने जा रहा है। 28 नवंबर से भुवनेश्वर में पुरुषों का हॉकी विश्व कप शुरू होगा। मेजबान देश भारत के साथ साथ हॉकी विश्व कप में16 अन्य देशों में भी भाग लेंगे। विश्वकप की शुरुआत से कुछ दिन पहले ही हॉकी विश्व कप के थीम सांग ‘जय हिंद इंडिया’ ए आर रहमान ने रिलीज़ किया। उन्होंने अपने ट्विटर पेज पर विश्व कप, हॉकी वर्ल्ड का आधिकारिक थीम गीत प्रकाशित किया।

एआर रहमान के साथ किंग खान को भी थीम सांग में देखा जा सकता हैं। शाहरुख़ खान को चक दे ​​इंडिया में हॉकी कोच की भूमिका में देखा गया था। भुवनेश्वर में कलिंग स्टेडियम के उद्घाटन समारोह में इस महीने के 28 तारिक को खुद रहमान परफॉर्म करेंगे।

मौत को हरा किया मतदान

धर्मेंद्र महापात्र, एएनएम न्यूज़, छत्तीसगढ़: 50 दिन रहा कोमा में, फिर भी किया मतदान
निर्वाचन आयोग द्वारा चलाये गये जागरूकता अभियान का दिखा असर।

लोकतंत्र के महापर्व में मंगलवार को हर वर्ग में खासा असर देखने को मिला मतदाताओं ने बढ चढकर मतदान में हिस्सा लिया। बैकुंठपुर के स्कूलपारा आंगनबाड़ी केन्द्र में एक ऐसे युवक ने मत देकर मिसाल कायम की जो कि 8 माह पूर्व 50 दिनों तक कोमा में रहा। युवक ने उत्साह के साथ हिस्सा लेकर मजबूत लोकतंत्र के लिये मतदान किया। इस बार मतदान पूर्व जिला स्वीप समिति और निर्वाचन आयोग द्वारा वृहद स्तर पर जागरूकता अभियान चलाया गया था जिसका असर वास्तव में देखने को मिला है। मतदान में हिस्सा लेने वाले युवक हिमांशु मिश्रा के परिजन ने बताया कि 14 मार्च को हुये सड़क दुर्घटना में उसके सिर में गंभीर चोट आई थी, जिसके बाद सर का आपरेशन कराया गया और वह 50 दिनों तक कोमा में रहकर जिंदगी और मौत से संघर्ष करता रहा।

मौत से जंग जीतकर उसे जिंदगी वापस मिली। मार्च से लेकर जून तक युवक हास्पीटल में ही रहा और अभी भी वह पूरी तरह से स्वस्थ नही हो सका है, मानसिक रूप से वह पूरी तरह से परिपक्व नही हो सका है, उसके बावजूद उसने अपने मत का प्रयोग किया। परिजन ने बताया कि टीव्ही,मोबाईल,समाचार पत्रों में निर्वाचन आयोग और जिला स्वीप समिति द्वारा चलाये गये मतदाता जागरूकता अभियान को देखने के बाद से उसने भी 20 तारीख को मतदान करने की जिद लगा रखी थी और मतदान दिवस उसने उत्सुकता के साथ वोट देने की इच्छा व्यक्त की। जिसके बाद परिजन उसे मतदान केन्द्र लेकर पहुंचे और मतदान कराया। मतदान के बाद युवक हिमांशु मिश्रा ने उंगली में लगे वोट के निशान को दिखाकर प्रशन्नता व्यक्त की।

नागपुर: शीतकालीन सत्र में विपक्षी एकजुट तो सरकार चारों खाने चित

मुरारी सिंह, मुंबई: महाराष्ट्र के नागपुर में शीतकालीन सत्र हंगामे, नारेबाजी और प्रदर्शन के साथ ही विधानमंडल का शीतकालीन सत्र सोमवार से शुरू हो गया। सत्र के पहले ही दिन विपक्ष ने अपने तीखे तेवर दिखाए। सरकार विरोधी नारेबाजी की। मराठा, मुस्लिम, धनगर आरक्षण का मामला गूंजा। किसानों को मदद देने की मांग के साथ प्रदर्शन हुआ। आज देवेंद्र फडणवीस सरकार पूरी तरह से विपक्षियों से घिरी रही
दोनों सदनों में कामकाज की शुरुआत वंदे मातरम से हुई। इसके बाद सदन में हंगामा शुरू हो गया। इस दौरान सरकार ने अध्यादेश को टेबल करने, पूरक मांग सदन रखने सहित अन्य कामकाज पूरा करने के बाद शोक प्रस्ताव पेश किया। भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी,आनंदराव नारायण राव देवकाते, वसंतराव राव धोत्रे, माधवराव जी गायकवाड, केशवराव आत्माराम पारधी, वासुदेव आनंदराव देशमुख, शिवाजीराव नारायण नागवडे, वैजनाथराव आकात, यादवराव भोयर आदि सदस्यों को दोनों सदनों में श्रद्धांजलि देकर सदन का कामकाज पूरे दिन के लिए स्थगित कर दिया गया। विपक्षियों का आज का रुख देखकर यह कहना गलत नहीं होगा यह सस्त्र भी सिर्फ बयानबाजी नारेबाजी आरोप और प्रत्यारोप में खत्म हो जाएगा।

आज विधानसभा में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखेपाटील ने मराठा आरक्षण का मामला उठाया। उन्होंने कहा कि रविवार को मुख्यमंत्री ने जिस तरह मराठा समाज को आरक्षण देने की घोषणा की है।उससे मराठा समाज के बच्चों को प्रशासनिक सेवा व अन्य नौकरियों में लाभ नहीं मिल सकेगा। उन्होंने राज्य पिछड़ा आयोग की रिपोर्ट को पहले ही दिन सभागृह में पेश किए जाने की मांग की। जिससे भारतीय जनता पार्टी के बीच खलबली मची हुई है।

जैसे ही शीतकालीन सत्र शुरू हुआ विधान परिषद में धनंजय मुंडे ने कहा कि राज्य में सूखा ग्रस्त इलाकों में किसानों की हालत दयनीय होती जा रही है। किसानों के लिए 50 हजार प्रति हेक्टेयर व गन्ना, केला तथा फल की बागवानी करने वाले किसानों को 1 लाख रुपये प्रति हेक्टेयर मुआवजा देने की मांग की। विरोधियों के हमले से सरकार घिरती हुई दिख रही है।

वर्धा सैनिक क्षेत्र में ब्लास्ट: 1 जवान 5 मजदूर शहीद, 7 की हालत नाजुक

मुरारी सिंह, मुंबई: महाराष्ट्र के वर्धा जिले में पुलगांव सैनिक क्षेत्र पर बड़ा विस्फोट होने से एक हादसा हो गया । जिसमें एक जवान और 5 कांट्रेक्टर लेबर की मौत हो गई । फिलहाल मौके वारदात पर एनडीआरएफ बचाव कार्य और फॉरेंसिक जांच के लिए टीम रवाना हो चुकी है । आपको बता दें कि सुबह के वक्त इस बम को डिफ्यूज करते समय बम हाथ से छूटा जमीन पर गिरा, जिसके बाद जोरदार धमाका हुआ। जिसमें मौके पर खड़े जवान की परखच्चे उड़ गए और पांच लेबर बुरी तरह जख्मी हो गए जिनकी मौत हो गई। बाकी का इलाज चल रहा है जिसमें 3 लोगों की हालत नाजुक बताई जा रही है।

हालांकि इस मामले में अभी तक कोई बड़ा बयान सामने नहीं आया है।लेकिन इस तरह की घटना से पूरा इलाका दहल गया है । क्योंकि विस्फोट की आवाज इतनी तगड़ी थी कि लगभग 20 किलोमीटर तक लोगों को सुनाई दी ।आसपास के इलाकों में मानव की कोहराम मच गया । सुबह का वक्त होने से लोग घर पर थे,और ताबड़तोड़ घटनास्थल पर भीड़ इकट्ठा हो गई। एक के बाद एक शव एंबुलेंस से बाहर निकाली गई वहां स्थानीय लोग भी मदद के लिए आगे आए।