मुंबई के डॉक्टरों की एक ही मांग पहले इंसाफ फिर होगा काम

मुरारी सिंह, एएनएम न्यूज़, मुंबई: मायानगरी मुंबई में भी दिखा डॉक्टरों का हड़ताल, कई अस्पताल हुए प्रभावित। आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में हुए डॉक्टरों के साथ हिंसा की आग मुंबई तक भी फैल चुकी है। डॉक्टर बड़े पैमाने पर आंदोलन कर रहे हैं, सरकार को इस मामले में गंभीरता लेने की जरूरत है नहीं तो हालात बिगड़ सकते हैं।

पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के साथ हिंसा के बाद जारी हड़ताल को 7 दिन से ज्यादा हो चुके हैं। बंगाल के डॉक्टरों के समर्थन में पूरे देश के डॉक्टर एकजुट हो गए हैं। वहीं मुंबई के भी डॉक्टरों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया खासकर के नौजवान डॉक्टरों में काफी आक्रोश है। वह अपनी मांगों को लेकर लगातार नारेबाजी कर रहे थे। इंडियन मेडिकल असोसिएशन और एम्स के जूनियर रेजिडेंट डॉक्टरों ने बंगाल के डॉक्टरों का साथ देने के लिए आज 24 घंटे के ‘महाबंद’ रखा था। जिसमें मुंबई के डॉक्टरों ने सफलतापूर्वक बंद को सफल बनाया। वहीं अस्पताल में मरीज और उनके परिजन डॉक्टरों की वजह से दर ब दर की ठोकर खा रहे थे। प्रशासन इस मामले में गंभीरता नहीं लिया तो हालात बिगड़ सकती हैं। जानकारी के मुताबिक पांच लाख से ज्यादा डॉक्टर हड़ताल पर हैं। इसका सबसे ज्यादा बुरा असर मायानगरी मुंबई में देखा जा रहा है। क्योंकि यहां देश के कोने-कोने से लोग इलाज कराने के लिए आते हैं। डॉक्टरों की हड़ताल इन के लिए कुदरत की दोहरी मार से कम नहीं है।

हज यात्रियों के साथ हो रही थी धोखाधड़ी, मोदी सरकार ने ऐसे कसी नकेल

एएनएम न्यूज़, डेस्क: हज यात्रा 2019 के लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। जगह-जगह कैम्प लगाकर हज यात्रियों को ट्रेनिंग दी जा रही है। यात्रा के संबंध में जागरूक भी किया जा रहा है। प्राइवेट टूर ऑपरेटर्स के ग्रुप में जाने वाले यात्रियों को खास दिशा-निर्देश दिए जा रहे हैं।
हज यात्रियों को धोखाधड़ी से बचाने के लिए केंद्र सरकार ने भी कड़े कदम उठाए हैं। अल्पसंख्यक मंत्रालय ने प्राइवेट टूर ऑपरेटर्स का रजिस्ट्रेशन करने से पहले उनकी जांच कराई है। अल्पसंख्यक कार्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी भी हज यात्रियों के साथ होने वाली धोखाधड़ी को लेकर सख्त थे।
इसी के चलते हज यात्रा 2019 के लिए देशभर के 97 ऐसे टूर ऑपरेटर्स हैं जिन्हें ग्रुप में हज यात्रियों को हज यात्रा पर ले जाने के लिए योग्य नहीं माना गया है। उन्हें लिस्ट में शामिल नहीं किया गया है। कुल 807 टूर ऑपरेटर्स ने रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन किया था। वहीं 50 से अधिक ऐसे भी ऑपरेटर्स हैं जिन्हें शर्तों के साथ हज यात्रियों का ग्रुप ले जाने की इजाजत दी गई है।

मरीज़ परेशान, डॉक्टरों की हड़ताल से ठप हैं अस्पताल

एएनएम न्यूज़, डेस्क: पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों पर हमले के विरोध में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) के आह्वान पर आज यानी सोमवार को भी मध्य प्रदेश में डॉक्टर 24 घंटे की हड़ताल पर हैं। इस बंद में सरकारी और प्राइवेट सभी डॉक्टर शामिल हैं जिसका राजधानी भोपाल सहित पूरे प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं पर असर पड़ा है। इस वजह से अस्पतालों में आने वाले मरीज परेशान हैं।

सदन में गूंजा एक ही सवाल- कहां हैं राहुल गांधी?

एएनएम न्यूज़, डेस्क: 17वीं लोकसभा के पहले सत्र की कार्यवाही सोमवार से शुरू हो गई है। पहले दिन प्रोटेम स्पीकर (कार्यवाहक अध्यक्ष) वीरेंद्र कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित सदन के नव-निर्वाचित सदस्यों को सांसद पद की शपथ दिलाई, लेकिन सदन में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी नज़र नहीं आए। इस बीच जब पीएम मोदी सांसद की शपथ लेने के बाद साइन करने के लिए प्रोटेम स्पीकर की तरफ आगे बढ़े, तो सांसदों ने पूछ लिया- ‘आखिर राहुल गांधी कहा हैं।’

सदन से राहुल के गैर-मौजूद रहने पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने भी सवाल उठाए। बीजेपी के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने कहा कि लोकसभा के सत्र के पहले दिन राहुल गांधी सदन में कहीं दिखाई नहीं दिए।

आज हड़ताली डाक्टर्स करेगें नवान्न में सीएम ममता बनर्जी से मुलाकात

एएनएम न्यूज़, डेस्क: लगातार छह दिनों से हड़ताल कर रहे चिकित्सक ममता बनर्जी से मुलाकात के लिए तैयार हो गये हैं। जूनियर डॉक्टरों का कहना है कि वे जनता के हित में सीएम से बात करने को तैयार हुए हैं। गौरतलब है कि शुक्रवार और शनिवार को डॉक्टरों ने सीएम से मुलाकात के निमंत्रण को ठुकरा दिया था।
उनकी मांग थी कि सीएम को एनआएस मेडिकल कॉलेज और हॉस्पीटल आकर बात करनी चाहिए। पर दिन ब दिन लचर होती स्वास्थ्य व्यवस्था को देखते हुए डॉक्टरों का रूख नरम पड़ गया है।
इस प्रतिनिधि मंडल में राज्य के सभी 14 मेडिकल कॉलेजों से दो – दो हड़ताली चिकित्सकों के प्रतिनिधि भाग लेंगे। डॉ मित्रा ने बताया कि, ‘मुख्यमंत्री तक यह सूचना पहुंची दी गयी है।

बिहार में 101 बच्चों के मौत

एएनएम न्यूज़, डेस्क: बिहार में AES यानि एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम से होने वाली मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। रविवार को जहां अस्पताल के आईसीयू में स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और उनकी टीम की मौजूदगी में बच्चों ने दम तोड़ा तो वहीं सोमवार को डॉक्टरों की हड़ताल के बीच भी मौत का सिलसिला जारी है। ऐसे में सवाल ये उठ रहा है कि आखिर क्या कारण है कि बच्चों की मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है लेकिन मौत को रोकने के कारगर उपाय नहीं हो सके हैं।

डॉक्टरों की तरफ से मिले जवाब के बाद हमने इस बीमारी के कारणों की तह में जाने की कोशिश की तो एक साथ कई चीजें सामने आईं। बच्चों की मौत का कारण न केवल एईएस बल्कि गरीबी, कुपोषण और सामाजिक चेतना का अभाव भी है।

गडकरी और गहलोत से मिले सीएम रघुवर दास, झारखंड के विकास में मांगा सहयोग

एएनएम न्यूज़, डेस्क: मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रविवार को नई दिल्ली में केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. थावरचंद्र गलहौत से मुलाकात कर उन्हें शुभकामनाएं दीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में झारखण्ड नए भारत के निर्माण में अहम भूमिका निभा रहा है। आपके सहयोग से हम लक्ष्य प्राप्ति की ओर और तेजी से बढ़ेंगे। इस क्रम में सीएम ने नितीन गडकरी से भी मुलाकात की।

स्वास्थ्य मंत्री की मौजूदगी में दो मासूमों की मौत

एएनएम न्यूज़, डेस्क: बिहार में चमकी बुखार यानि एईएस से होने वाली मौतों का सिलसिला लगातार जारी है। इस क्रम में रविवार को दो बच्चियों ने अस्पताल में स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन और अश्विनी चौबे समेत बिहार के मंत्री मंगल पांडेय की मौजूदगी में दम तोड़ दिया।
मृतक के परिजनों को मुआवजा
मुजफ्फरपुर में एईएस से हुई बच्चों की मृत्यु पर संवेदना जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने इस भयंकर बीमारी से मृत हुए बच्चों के परिजनों को मुख्यमंत्री राहत कोष से शीघ्र ही चार-चार लाख रूपये अनुग्रह अनुदान देने का निर्देश दिया है इसके साथ ही उन्होंने स्वास्थ्य विभाग, जिला प्रशासन एवं चिकित्सकों को इस भयंकर बीमारी से निपटने के लिए हरसंभव कदम उठाने के निर्देश दिए हैं।

महाराष्ट्र मंत्रिमंडल का विस्तार शुरू, आठ कैबिनेट और पांच राज्य मंत्री ले रहे हैं शपथ

मुरारी सिंह, एएनएम न्यूज़, मुंबई: कुछ महीनों में महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव है जिसे लेकर बीजेपी नए चेहरों के ऊपर दाव खेली है और बीजेपी में शामिल हुए कांग्रेस के बड़े नेताओं को भी प्रथम प्राथमिकता दी है। वहीं शिवसेना के भी दो नेताओं को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है जबकि शिवसेना के दो मंत्री पहले से ही मंत्रिमंडल में शामिल थे।महाराष्ट्र कैबिनेट के हुआ विस्तार।

नए कैबिनेट मंत्रियों के नाम

राधाकृष्ण विखे पाटिल -बीजेपी
जय दत्त क्षीरसागर -शिवसेना
एडवोकेट आशीष शेलार -बीजेपी
डॉ संजय कुटे -बीजेपी
डॉ सुरेश खाडे
डॉ अनिल बोंडे-बीजेपी
डॉ अशोक उईके- बीजेपी
ताना जी सावंत -बीजेपी

राज्य मंत्री

योगेश सागर- बीजेपी
अविनाश महातेकर-आरपीआई
संजय (बाला) भेगड़े बीजेपी
डॉ परिणय फूके
अतुल सावे- शिवसेना

पीएम मोदी से मिले झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास

एएनएम न्यूज़, डेस्क: झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नई दिल्ली में मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में बीते पांच वर्षों में जो विकास कार्य हुए, उसी का नतीजा है कि भारत की जनता ने इतना बड़ा जनादेश दिया है, उन्हें झारखंड की सवा तीन करोड़ जनता की ओर से बधाई दी।

नीति आयोग की बैठक में रघुवर दास ने सुझाव दिया कि आपदा राहत कोष के नियमों में लचीलापन लाने की जरुरत है। कई बार ऐसी स्थितियां आ जाती है, जिससे तकनीकी दृष्टिकोण से सुखाड़ घोषित करने की स्थिति नहीं बन पाती, लेकिन राहत कार्यों की आवश्यकता रहती है। वहीं पीएम मोदी ने इन सुझावों पर सकारात्मक प्रतिक्रिया देते हुए अमल करने का आश्वासन दिया।