आप भी करे देश के लिए बलिदान देने वाले जवानों की मदद भारत के वीर ऐप से

एएनएम न्यूज, डेस्क:               www.bharatkeveer.gov.in

यह वेबसाइट भारत सरकार के गृह मंत्रालय द्वारा और अभिनेता अक्षय कुमार की मदद से लॉन्च की गई है। इस वेबसाइट में उन सैनिकों का विवरण है जिन्होंने हमारे राष्ट्र की रक्षा के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया। आप अपनी क्षमता के अनुसार न्यूनतम (10 (रुपए दस) से लेकर s 15 लाख (अधिकतम) तक का योगदान कर सकते हैं। अगर किसी एक सैनिक को lakh 15 लाख मिलते हैं, तो उसे सूची से हटा दिया जाएगा। जरा सोचिए अगर भारत के 125 करोड़ लोगों में से 50 लाख लोग केवल 10 रुपये का योगदान करते हैं। तो यह 5 करोड़ हो जाएगा।

इस पहल में अपनी भागीदारी दिखाने के लिए आप अपना योगदान प्रमाणपत्र निकाल सकते हैं। वेबपोर्टल और मोबाइल ऐप पर शहीद जवानों की सूची और उनके परिजनों संपर्क कायम करने की पूरी जानकारी मौजूद है। इसमें शहीद के किसी एक परिजन का बैंक खाता नंबर भी शामिल है जिससे कोई भी दानदाता बैंक खाते में सीधे राशि जमा करा सकता है। वेबसाइट पर शहीद हुए सैनिक की शहादत से जुड़े अभियान की जानकारी भी गई है।

#पुलवामा अटैक# में शहीद हुए जवानो के परिवार के लिए आगे आये उत्तर प्रदेश के आइ पी एस एसोसिएशन

एएनएम न्यूज़, डेस्क: उत्तर प्रदेश के आइ पी एस एसोसिएशन ने कल #पुलवामा अटैक# में अपनी जान गंवाने वाले CRPF कर्मियों के परिवार के सदस्यों को एक दिन का वेतन देने का फैसला किया है। यह राशि दिल्ली में सीआरपीएफ मुख्यालय, लखनऊ के माध्यम से सीआरपीएफ मुख्यालय को भेजी जाएगी।

गीतेश त्रिपाठी, एएनएम न्यूज, नैनीताल: बीते रोज जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में खटीमा निवासी जवान वीरेंद्र सिंह राणा भी देश के लिए शहीद हो गए। तीन दिन पहले ही 20 दिन की छुट्टी काट वापस ड्यूटी पर लौटे थे वीरेंद्र, वीरेंद्र की शहादत की खबर से उसके परिजनों सहित पूरे सीमान्त इलाके में शोक की लहर छा गई है। जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हाइवे पर चल रही सीआरपीएफ की कॉन्वॉय में हुए फिदायीन हमले में जंहा देश के 42 जवानों को खो दिया है। वही इस आतंकी हमले में उत्तराखण्ड के खटीमा निवासी कॉन्स्टेबल वीरेंद्र सिंह राणा भी वीर गति को प्राप्त हुए है। शहीद वीरेंद्र खटीमा के मोहम्मद पुर भुडिया गांव के निवासी थे जो कि तीन दिन पहले ही 20 दिन की छुट्टी काट के वापस अपनी ड्यूटी पर जम्मू कश्मीर को लौटे थे। सीआरपीएफ जवान की शहादत की खबर मिलते है उसने घर मे कोहराम मचा है। खटीमा का पूरा सीमान्त इलाका इस खबर के बाद जंहा स्तब्ध है वही पूरे क्षेत्र में शोक की लहर छाई हुई है। शहीद के घर शोक जताने वालो का जमावड़ा लगा हुआ है। शहीद वीरेंद्र अपने पीछे पत्नी रेनू व पांच साल की लड़की व ढाई साल के लड़के को छोड़ गए है। वही तीन भाइयों में शहीद घर पर सबसे छोटे थे।

बड़े भाई जय सिंह राणा भी सीआरपीएफ से जंहा रिटायर्ड हुए है। वही तीन भांजे व एक भतीजा सेना में रह देश की सेवा कर रहे है। शहीद का पूरा गांव जंहा वीरेंद्र की शहादत से दुखी है वही उन्हें इस बात का भी फक्र है कि वीरेंद्र ने देश रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति दी है। वही हम आपको बता दे कि सीआरपीएफ की 45 बटालियन के जवान वीरेंद्र सिंह राणा से पहले नवम्बर 2018 को खटीमा के ही सीआरपीएफ के जवान चंद्रिका प्रसाद की भी आतंकी हमले में जम्मू कश्मीर में शहादत हुई थी। साथ ही सीमान्त खटीमा की वीर धरती से अभी तक लगभग 36 वीर शहीदों ने देश रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने का काम किया है।

श्रीनगर में गृह मंत्री राजनाथ सिंह की प्रेस कांफ्रेंस

यवर शफी, एएनएम न्यूज, श्रीनगर: श्रीनगर में एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए, गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि उन्होंने अधिकारियों से पाकिस्तान और इसकी खुफिया एजेंसी आईएसआई से पैसे लेने वाले लोगों को प्रदान की गई सुरक्षा की समीक्षा करने के लिए कहा है।
“कुछ ऐसे तत्व हैं जो उग्रवादी संगठनों और सीमा पार आईएसआई के साथ हैं। वे साजिशों में भी शामिल हैं। वे जम्मू और कश्मीर के लोगों, विशेषकर युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।” सिंह ने एक प्रेसर में कहा।

“यहां कुछ तत्व हैं जो पाकिस्तान और आईएसआई से पैसा लेते हैं। मैंने अधिकारियों से कहा है कि ऐसे लोगों को प्रदान की गई सुरक्षा की समीक्षा की जानी चाहिए। सिंह ने यह बात बडगाम जिले के हमहामा में मारे गए सीआरपीएफ जवानों के शव यात्रा पर पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कही। पुलवामा के लेथपोरा इलाके में एक जैश-ए-मुहम्मद के आतंकवादी द्वारा श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर एक सेना के काफिले पर हमला करने के बाद 49 सीआरपीएफ कर्मी मारे गए।

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार के हमले में मारे गए सीआरपीएफ के जवानों को श्रद्धांजलि देने और सुरक्षा स्थिति पर चर्चा करने के लिए श्रीनगर पहुंचे।

कश्मीर में स्थानियो का उग्रवाद का विरोध, कर्फ्यू जारी

श्याम सुंदर, जम्मू: कश्मीर में आतंकवादी हत्याओं की घटना को केंद्र कर दो समूहों के बीच विवाद शुरू हो गई है। कश्मीर के पुराने शहर गुज्जरनगर में स्थानीय लोग सुबह गुस्से से भड़क उठे। पाकिस्तान हमलों के विरोध में दो समूहों की बीच हुई हिंसक झड़प में 10 से 20 वाहनों को जलाने का आरोप है। घटना में लगभग 20 लोग घायल हो गए। इलाके में शांति बनाए रखने के लिए कर्फ्यू जारी किया गया है। स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए मौके पर पुलिस और सेना मुस्तैदी से तैनात है।

17 फरवरी को जन्मदिन के जश्न नहीं मनाएंगे तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव

एएनएम न्यूज़, डेस्क: तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने पुलवामा हमले के मद्देनजर 17 फरवरी को होने वाले अपने जन्मदिन के जश्न को रद्द कर दिया और पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे किसी भी सूरत में इस समारोह को न मनाएं।

पुलवामा आतंकी हमले पर देश में आक्रोश जोधपुर के मुक्केबाज और वुशु खिलाड़ियों का फूटा गुस्सा

लोकेश व्यास, एएनएम न्यूज़, जोधपुर: पुलवामा आतंकी हमले में भारत के जवान शहीद हुए इसे पुरे भारत में शोक की लहर हे और भारत का हर नागरिक यही मांग कर रहा है कि इस आतंकी हमले का मुह तोड़ जवाब दिया जाए। कोई सोसल मिडिया पर अपना रोष जता रहा है तो कोई उन जवानों को श्रदांजलि देकर। जोधपुर के गोशाला मैदान में आज मुक्केबाज और वुशु खिलाड़ियों ने भी रोष प्रदर्शन किया गया और उन्होंने पाकिस्तान और आतंकवाद के खिलाफ विरोध प्रदशन कर रोष जताया। तो वही “पाकिस्तान मुर्दाबाद” और “राजनेताओं शर्म करो, पाकिस्तान पर हमला करो” देश के गद्दारो को गोली मारो सालो को जैसे बैनर लेकर विरोध प्रदशन कर अपना रोष जता कर रहे।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह श्रीनगर पहुंचे

यावर सफी, एएनएम न्यूज, कश्मीर: देश के गृह मंत्री राजनाथ सिंह जमीनी हालात और परिचालन कार्यों का आकलन करने के लिए आज श्रीनगर पहुंचे। वह उच्च सुरक्षा अधिकारियों के साथ उच्च सुरक्षा समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करेंगे। इस बीच एनआईए की टीम ने लेथपोरा पुलवामा में विस्फोट स्थल का भी दौरा किया। इस मामले की जांच के लिए एनआईए के आईजी स्तर के अधिकारी। नई दिल्ली में हाई कमान सुरक्षा बैठक 9:15 बजे शुरू। बैठक की निगरानी करने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार।

एएनएम न्यूज़ पुरे दिन हर एक घटना पर नज़र रखेगी।

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में शहीद हुआ मैनपुरी का लाल

संजय शर्मा, एएनएम न्यूज, मैनपुरी: जनपद मैनपुरी के बरनाहल थाना क्षेत्र के ग्राम विनायकपुर का था रहने वाला शहीद रामवकील माथुर जम्मू कश्मीर के पुलवामा में कायरतापूर्ण आत्मघाती आतंकी हमले में शहीद हो गया। अभी 2 तारीख को 8 दिन की छुट्टी लेकर 11 तारीख को वापस गया था शहीद हुआ सैनिक रामवकील माथुर। 176 बटालियन में एच सी जी डी के पद तैनात था शहीद हुआ सैनिक रामवकील माथुर। अपने पीछे 3 बच्चो और पत्नी को छोड़ गया शहीद हुआ सैनिक। गाँव मे शोक, परिवार की महिलाओं को नहीं दी गयी कोई जानकारी।