दुर्गापुर में भाजपा की विजय रैली के दौरान चली गोली

एएनएम न्यूज़, आसनसोल ब्यूरो: पश्चिम बर्धमान के दुर्गापुर धबनी इलाके में भाजपा की विजय रैली में बमबाजी और गोली चलाने का आरोप उठा तृणमूल के खिलाफ। स्थानीय तृणमूल ने हालांकि भाजपा द्वारा लगाए आरोप का खंडन करते हुए प्रतिरोध का खंडन किया लेकिन गोली चलाने से इनकार किया। वही बीजेपी नेता जितेन चटर्जी ने कहा की तृणमूल के उपद्रवियों ने पूर्व नियोजित तरीके से जुलूस पर हमला किया।

तृणमूल दुर्गापुर फरीदपुर ब्लॉक अध्यक्ष सुजीत मुखर्जी ने कहा, भाजपा द्वारा विजय जुलूस के लिए किसी तरह का अनुमति नहीं ली गयी थी। भाजपा के समर्थको ने उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर हमला किया और उनलोगो ने हमले का विरोध किया। हालांकि, गोलीबारी के आरोप को उन्होंने निराधार बताया। भाजपा के अंदरूनी द्वन्द के कारण भाजपा समर्थकों को गोली लगी है। आप को बता दे भाजपा के एक समर्थक के पैर में गोली लगी है तो वही एक और समर्थक के पैर को छू कर गोली निकल गयी। एक समर्थक के सर पर गहरी चोट लगी है जिसके कारण उसे और गोली से घायल समर्थक को अस्पताल में भर्ती किया गया है। पूरे क्षेत्र में व्यापक तनाव फैल गया। बड़े पैमाने पर पुलिस बल तैनात किया गया है।

ना गवार गुजरा शिवसेना को 50-50 का फार्मूला

मुरारी सिंह, एएनएम न्यूज़, मुंबई: बीजेपी नेता चंद्रकांत पाटिल ने राज्य चुनावों के तहत बीजेपी-शिवसेना को 135-135 सीटों पर चुनाव लड़ने का फार्मूला दिया है। जो शिवसेना को रास नहीं आया और वही उनके बड़े नेता अपनी मांगों और बंटवारे पर अड़े हुए हैं। आपको बता दे महाराष्ट्र की कुल 288 सदस्यों वाली विधानसभा में 135- 135 का फार्मूला और 18 सीटें सहयोगी दलों को देने का प्रस्ताव रखा गया। शिवसेना ने इस 50:50 फॉर्मूले को अस्वीकार करते हुए 144 सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा किया है।

हालांकि शिवसेना नेताओं का कहना है कि लोकसभा चुनावों के पहले सीटों के बंटवारे को लेकर बात हो चुकी थी। दोनों पार्टियों ने 144-144 सीटों पर लड़ने पर सहमति जताई थी। एक सीनियर नेता ने कहा, ‘जिन छोटे दलों को सीट देने की बात हो रही है, वो बीजेपी के सहयोगी हैं, ना की हमारे। बीजेपी को उन्हें अपने कोटे की सीटों में से हिस्सा देना चाहिए। 144 के फॉर्मूले पर बात पक्की हुई थी, ऐसे में 135 की बात करने का कोई मतलब नहीं। बीजेपी, सहयोगी पार्टियों को अपने ही चुनाव चिन्ह पर लड़ाना चाहती है। इसका मतलब है कि सहयोगी दलों की 18 सीट भी उन्हें ही मिलेगी और उनका टोटल शेयर 153 सीटों का हो जाएगा।’

टीम मोदी के मंत्रियो ने शपथ ली, जानिये किसको क्या मिला

एएनएम न्यूज़, डेस्क: नरेंद्र मोदी ने दोबारा देश के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली हैं। राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद उन्‍हें पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी। शपथ लेने से पहले पीएम मोदी संभावित मंत्रियों से अपने आवास 7 रेस कोर्स रोड में चाय पर चर्चा की। मोदी के साथ चाय पर चर्चा में अनुराग ठाकुर, पूर्व विदेश सचिव एस जयशंकर भी मौजूद थे। इससे पहले आज सुबह, नरेंद्र मोदी ने दूसरे कार्यकाल के लिए शपथ लेने से पहले अपनी मंत्रिपरिषद को व्यवस्थित रूप देने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ अंतिम दौर की वार्ता की। राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में आयोजित होने वाले इस शपथ ग्रहण समारोह में करीब आठ हजार मेहमानों के शामिल हुए। शपथ ग्रहण समारोह में बिम्सटेक देशों – बांग्लादेश के राष्ट्रपति अब्दुल हामिद, श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना, नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली, म्यामां के राष्ट्रपति यू विन मिंट और भूटान के प्रधानमंत्री लोताय शेरिंग ने शामिल होने की पुष्टि पहले ही कर दी थी।

नरेंद्र मोदी ने हाथ जोड़कर सभी उपस्थित अतिथियों का अभिवादन किया और फिर राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नरेंद्र मोदी को दिलवायी शपथ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद राजनाथ सिंह ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली।

अमित शाह ने तीसरे नंबर पर ली कैबिनेट मंत्री पद की शपथ।
नितिन गडकरी ने चौथे नंबर पर ली कैबिनेट मंत्री पद की शपथ।
सदानंद गौड़ा ने पांचवें नंबर पर ली कैबिनेट मंत्री पद की शपथ।
निर्मला सीतारमण ने छठे नंबर पर ली कैबिनेट के मंत्री पद की शपथ।
लोजपा अध्‍यक्ष रामविलास पासवान ने सातवें नंबर पर ली कैबिनेट मंत्री पद की शपथ।
नरेंद्र सिंह तोमर ने आठवें नंबर पर ली कैबिनेट मंत्री पद की शपथ।
रविशंकर प्रसाद ने नौवें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल ने दसवे नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
थावरचंद गहलौत ने ११ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
एस जयशंकर ने १२ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
डॉ रमेश पोखरियार निशंक ने १३ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
अर्जुन मुंडा ने १४ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
स्‍मृति ईरानी ने १५ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
डॉ हर्षवर्धन ने १६ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
प्रकाश जावडेकर ने १७ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
पीयूष गोयल ने १८ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
धर्मेंद्र प्रधान ने १९ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
मुख्‍तार अब्‍बास नकवी ने २० वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
प्रह्लाद जोशी ने २१ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली
महेंद्र नाथ पाण्‍डेय ने २२ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
अरविंद सावंत ने २३ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
गिरिराज सिंह ने २४ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।
गजेंद्र सिंह शेखावत ने २५ वें नंबर पर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।

संतोष गंगवार ने २६ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री स्‍वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
इंद्रजीत सिंह ने २७ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री स्‍वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
श्रीपद नाइक ने २८ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री स्‍वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
जितेंद्र सिंह ने २९ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री स्‍वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
किरण रिजिजू ने ३० वें नंबर पर राज्‍यमंत्री स्‍वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
प्रह्लाद पटेल ने ३१ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री स्‍वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
राजकुमार सिंह ने ३२ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री स्‍वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
हरदीप सिंह पुरी ने ३३ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री स्‍वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
मनसुख मांडविया ने ३४ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री स्‍वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।

फग्‍गन सिंह कुलस्‍ते ने ३५ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
अश्विनी कुमार चौबे ने ३६ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
अर्जुन राम मेघवाल ने ३७ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
जनरल वी के सिंह (सेवानिवृत्त) ने ३८ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
कृष्‍णपाल गुज्‍जर ने ३९ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री स्‍वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
राव साहेब दानवे ने ४० वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
जी कृष्‍ण रेड्डी ने ४१ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
पुरुषोत्तम रुपाला ने ४२ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री स्‍वतंत्र प्रभार के पद की शपथ ली।
रामदास अठावले ने ४३ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
साध्‍वी निरंजन ज्‍योति ने ४४ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
बाबुल सुप्रियो ने ४५ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
संजीव कुमार बालियान ने ४६ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
संजय धोत्रे ने ४७ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
अनुराग सिंह ठाकुर ने ४८ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
सुरेश अंगाड़ी ने ४९ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
नित्‍यानंद राय ने ५० वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
रतनलाल कटारिया ने ५१ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
वी मुरलीधरन ने ५२ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
रेणुका सिंह ने ५३ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
सोम प्रकाश ने ५४ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
रामेश्‍वर तेली ने ५५ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
प्रतापशचंद्र सारंगी ने ५६ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
कैलाश चौधरी ने ५७ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली।
देबाश्री चौधरी ने ५८ वें नंबर पर राज्‍यमंत्री के पद की शपथ ली

जब बधाई देने आईं प्रज्ञा ठाकुर, मोदी ने ऐसे फेर लिया मुंह

एएनएम न्यूज़, डेस्क : नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री के रूप में दूसरे कार्यकाल की शुरुआत करने जा रहे हैं, लेकिन लगता है कि भोपाल से सांसद चुनी गईं साध्वी प्रज्ञा ठाकुर से मोदी अब भी नाराज़ हैं। इसके बाद सभी सांसद मोदी को बधाई दे रहे थे। वह सबसे हंस कर मिले, लेकिन जैसी ही प्रज्ञा उन्हें बधाई देने के लिए आगे बढ़ीं, मोदी ने मुंह फेर लिया और आगे बढ़ने का इशारा कर दिया।

लोकसभा चुनाव में प्रचार के दौरान साध्वी प्रज्ञा ने महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे को लेकर बड़ा बयान दे दिया था। साध्वी ने गोडसे को राष्ट्रभक्त बताया था। साध्वी प्रज्ञा ने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और रहेंगे। इस वजह से बीजेपी को चौतरफा आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था।

प्रधान मंत्री मोदी की अल्पसंख्यकों तक पहुंचने की कोशिश

एएनएम न्यूज, डेस्क: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अपने 75 मिनट के भाषण के दौरान अल्पसंख्यकों तक पहुंचने की कोशिश की, जिनके बारे में उन्होंने दावा किया था कि उन्हें पिछली सरकारों ने छोड़ दिया था। पीएम मोदी ने नई ऊर्जा के साथ नए भारत के निर्माण के लिए एक नई यात्रा ’का वादा किया। उन्होंने एनडीए गठबंधन के सहयोगियों से भी बिना किसी भेदभाव के अल्पसंख्यकों का विश्वास जीतने के लिए जागरूक प्रयास करने का आग्रह किया।

स्मृति ईरानी के करीबी पूर्व प्रधान की गोली मारकर हत्या

राजीव ओझा, अमेठी: केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की जीत का जश्न मनाने के बाद घर लौटे नवनिर्वाचित सांसद के करीबी बरौलिया के पूर्व प्रधान सुरेन्द्र सिंह को अज्ञात बदमाशो ने घर पर गोली मार दी है।

ट्रामा सेंटर ले जाते समय उनकी रास्ते में हुई मौत हो गई। खबर आग की तरह फ़ैल गई और गाँव मे मचा कोहराम मच गया।

अमेठी के जामो थाना क्षेत्र के बरौलिया का है यह मामला। आपको बताते चले की यह गाँव गोवा के स्वर्गीय पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने लिया था गोद लिया था।

ड्रैगन ने भी की प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ

एएनएम न्यूज़, डेस्क: चीन के सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ अधिकारियों ने पीएम मोदी की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने पिछले पांच वर्षों में भारत की अर्थव्यवस्था को बढ़ाने और लोगों की आजीविका में सुधार करने के लिए बहुत सारे प्रयास किए हैं।

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) गुइझू प्रांतीय कमेटी की स्थायी समिति के सदस्य मु दीगुई ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में, भारत में शासन में सुधार हुआ है।

कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में कांग्रेस नेता राहुल के समर्थन में कूदे

एएनएम न्यूज़, डेस्क: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी की हार की पूरी जिम्मेदारी ली और शनिवार को कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में इस्तीफे की पेशकश की। सीडब्ल्यूसी ने हालांकि इसे ठुकरा दिया है। पार्टी के नेता उनका जोरदार समर्थन कर रहे हैं और कहा कि पार्टी के नुकसान का दोष किसी व्यक्ति विशेष पर नहीं डाला जा सकता।

माँ का आशीर्वाद लेने 26 मई को गुजरात तो 27 मई को काशी जायेंगे प्रधानमंत्री मोदी

एएनएम न्यूज़, डेस्क: भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए ने लोकसभा चुनावों में भारी बहुमत के साथ सत्ता में वापसी करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 मई को अपनी मां के आशीर्वाद के लिए गुजरात का दौरा करेंगे। 27 मई को, वह वाराणसी में होंगे, जहाँ प्रधानमंत्री काशी के लोगो को उन्हें 4,79 लाख वोटों से जीताने और उन पर विश्वास बनाये रखने के लिए धन्यवाद् देंगे।

“अपनी माँ का आशीर्वाद लेने के लिए कल शाम गुजरात जाऊंगा। कल सुबह के बाद, मैं इस महान भूमि के लोगों को मुझ पर विश्वास करने के लिए धन्यवाद देने के लिए काशी में रहूंगा, ”प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया।

टीएमसी के निलंबित विधायक भाजपा में शामिल

एएनएम न्यूज़, डेस्क: 6 साल के लिए टीएमसी से निलंबित विधायक सुभ्रांशु रॉय ने कहा की वह कुछ दिनों के भीतर भाजपा में शामिल होंगे। सुभ्रांशु रॉय ने कहा भाजपा में “नई पारी” में वह “स्वतंत्र रूप से सांस ले पाएंगे। तृणमूल कांग्रेस ने इससे पहले 24 मई को रॉय को कथित पार्टी विरोधी टिप्पणियों के लिए छह साल के लिए निलंबित कर दिया था।

बीजपुर के तृणमूल विधायक सुभ्रांशु भाजपा के कद्दावर नेता मुकुल रॉय के बेटे हैं।